Stephen-Hawking

Stephen Hawking Inspirational Quotes To Motivate You



 अतीत, भविष्य की तरह ही अनिश्चित है और केवल सम्भावनों के एक स्पेक्ट्रम के रूप में  मौजूद है।
 अन्य विकलांग लोगों के लिए मेरी सलाह होगी , उन चीजों पर ध्यान दें जिन्हे अच्छी तरह से करने से आपकी विकलांगता नहीं रोकती , और उन चीजों के लिए अफ़सोस नहीं करें जिन्हे करने में ये बाधा डालती है। आत्मा और शरीर दोनों से विकलांग मत बनें।
 ऊपर सितारों की तरफ देखो अपने पैरों के नीचे नहीं।  जो देखते हो उसका मतलब जानने की कोशिश करो और आश्चर्य करो की क्या है जो ब्रह्माण्ड का अस्तित्व बनाये हुए है।  उत्सुक रहो।
 एक शून्य-गुरुत्वाकर्षण उड़ान अंतरिक्ष यात्रा की ओर पहला कदम है।
 एक समय समय-यात्रा को वैज्ञानिक विधर्म माना जाता था , और मैं इसके बारे में बात करने से बचता था कि कहीं मुझ पर ‘सनकी’ का लेबल ना लगा दिया जाये।
 कंप्यूटर हर महीने अपना प्रदर्शन दोगुना करते जाते हैं।
 कई लोगों को ब्रह्माण्ड कन्फ़्यूजिंग लगता है- ऐसा नहीं है।
 कभी-कभी मुझे आश्चर्य होता है कि क्या मैं अपनी व्हीलचेयर और विकलांगता के लिए उतना ही प्रसिद्ध हूँ जितना अपनी खोजों के लिए।
 कम्प्यूटरों द्वारा बुद्धि विकसित कर ham पर काबू करना एक वास्तविक खतरा  है ।
 काम आपको अर्थ और उद्देश्य देता है और इसके बिना जीवन अधूरा है।
 कुछ भी नहीं जो हमेशा नहीं रह सकता।
 कोई कुछ दिन आगे से अधिक मौसम का अनुमान नहीं लगा सकता। Stephen Hawking
 क्योंकि गुरुत्वाकर्षण जैसा एक नियम है , ब्रह्माण्ड स्वयं को कुछ नहीं से सृजित कर सकता है और करेगा।
 चाहे ज़िन्दगी जितनी भी कठिन लगे, आप हमेशा कुछ न कुछ कर सकते हैं और सफल हो सकते हैं।
 जब किसी की उम्मीद एकदम ख़त्म हो जाती है, तब वो सचमुच हर उस चीज की महत्ता समझ पाता है जो उसके पास है।
 जिस डॉक्टर ने मुझमे ए एल एस या मोटर न्यूरॉन बीमारी डायग्नोज की थी ,ने कहा था की ये मुझे दो या तीन साल में मार डालेगी।
 जो लोग अपनी आई.क्यू के बारे में डींगे हांकते हैं वे लूजर होते हैं।
 दिव्य रचना से पहले भगवान क्या कर रहा था ?
 धर्मशास्त्र अनावश्यक है।
 बुद्धिमत्ता बदलाव के अनुरूप ढलने की क्षमता है।
 ब्रह्मांड से बड़ा या पुराना कुछ भी नहीं।
 महिलाएं। वे पूरी तरह से एक रहस्य हैं।
 मुझे नहीं लगता कि मानव जाति अगले हज़ार साल बची रह पायेगी, जबतक कि हम अंतरिक्ष में विस्तार नहीं करते।
 मुझे लगता है ब्रह्माण्ड में और ग्रहों पर जीवन आम है , हालांकि बुद्धिमान जीवन कम ही है।  कुछ का कहना है इसका अभी भी पृथ्वी पर आना बाकी है।
 मेरा लक्ष्य स्पष्ट है। ये ब्रह्माण्ड को पूरी तरह समझना है , ये जैसा है वैसा क्यों है और आखिर इसके अस्तित्व का कारण क्या है।
 मेरा विश्वास है की चीजें खुद को असंभव नहीं बना सकतीं।
 मेरी पहली लोकप्रिय किताब , ‘ अ ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ़ टाइम,’ ने काफी रूचि पैदा की , लेकिन कई लोगों को इसे समझने में कठिनाई हुई।
 मेरे पास इतना कुछ है जो मैं करना चाहता हूँ।  मुझे समय बर्वाद करने से नफरत है।
 मैं अपनी आत्मकथा नहीं लिखना चाहता क्योंकि मैं एक सार्वजानिक संपत्ति बन जाऊंगा और मेरी कोई प्राइवेसी नहीं रहेगी
 मैं एक अच्छा छात्र नहीं था…मैं कॉलेज में ज्यादा समय नहीं बीतता था ; मैं मजे करने में बहुत व्यस्त था।
 मैं चाहूंगा न्यूक्लीयर फ्यूज़न एक व्यवहारिक ऊर्जा का स्रोत बने। यह प्रदूषण या ग्लोबल वार्मिंग के बिना, ऊर्जा की अटूट आपूर्ति प्रदान करेगा।
 मैं बस एक बच्चा हूँ जो कभी बड़ा नहीं हुआ। मैं अभी भी ये ‘कैसे’ और ‘क्यों’ वाले सवाल पूछता रहता हूँ। कभी-कभार मुझे जवाब मिल जाता है।
 मैं मानता हूँ कि जिन्हे लाइलाज बीमारी है और वे अत्यधिक पीड़ा में हैं उनके पास अपना जीवन समाप्त करने का अधिकार होना चाहिए , और जो उनकी मदद करें उन्हें अभियोग से मुक्त रखना चाहिए।
 मैं मानता हूँ कि ब्रह्माण्ड विज्ञान के नियमों द्वारा संचालित होता है।  हो सकता है ये नियम भगवान द्वारा बनाये गए हों , लेकिन भगवान इन नियमों को तोड़ने के लिए हस्तक्षेप नहीं करता।
 मैं मौत से नहीं डरता, लेकिन मुझे मरने की कोई जल्दी नहीं है । मेरे पास पहले करने के लिए इतना कुछ है।
 मैंने देखा है वो लोग भी जो ये कहते  हैं  कि सब   कुछ  पहले  से  तय  है , और हम उसे बदलने के लिए कुछ भी नहीं कर सकते, वे भी सड़क पार करने से  पहले देखते   हैं।
 यदि आप यूनिवर्स को समझते हैं तो एक तरह से आप इसे नियंत्रित करते हैं। Stephen Hawking
 यदि आप हमेशा गुस्सा या शिकायत करते हैं तो लोगों के पास आपके लिए समय  नहीं  रहेगा।
 लाइफ दुखद होगी अगर ये अजीब ना हो।
 वास्तविकता की कोई अनूठी तस्वीर नहीं होती।
 विज्ञान केवल तर्क का अनुयायी नहीं है, बल्कि रोमांस और जूनून का भी।
 विज्ञान लोगों को गरीबी और बीमारी से निकाल सकता है। और वो बदले में सामाजिक अशांति ख़त्म कर सकता है।
 हम अपने लालच और मूर्खता के कारण खुद को नष्ट करने के खतरे में हैं। हम इस छोटे, तेजी से प्रदूषित हो रहे और भीड़ से भरे ग्रह  पर अपनी और अंदर की तरफ देखते नहीं रह सकते .
 हम एक औसत तारे के छोटे से ग्रह पर रहने वाली बंदरों की एक अन्नत नस्ल हैं . लेकिन हम ब्रह्माण्ड को समझ सकते हैं। ये हमें कुछ ख़ास बनाता है ।
 हम यहां क्यों हैं? हम कहां से आते हैं? परंपरागत रूप से, ये फिलोसोफी के सवाल हैं, लेकिन फिलोसोफी मर चुकी है।
 हम सोचते हैं हमने सृष्टि के सृजन की गुत्थी सुलझ ली है।  शायद हमें ब्रह्माण्ड का पेटेंट करा लेना चाहिए और सभी से उनके अस्तित्व के लिए रॉयल्टी चार्ज करनी चाहिए।
 हमें सबसे अधिक महत्त्व का काम करने का प्रयास करना चाहिए।

Thoughts to Inspire Success in Your Life and Business

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here